Believing is on choice---

Posted On Tuesday, February 21, 2017 | 12:07:19 PM


"Believing is on choice, and truth is not dependent on belief".
- "Wisdom is not counted with living period, but only dawns with His blessings"; 
&
- "Those who do not cooperate with Him will never Realize God Power".
My close association with Him taught me so many basic important aspects and He is still continuously teaching me a lot about approach to happy and satisfactory living life. Most important amongst His teachings include the art of presentation of the self views and actions before the living human beings or of the dead human beings before the living people. 
His teachings highlight our understanding and presentation of this art. 
I believe the most important aspect of self presentation is that 
it presents to others the wisdom and cooperation with Him. 
To my belief,
wisdom dawns because of the blessings of Rev. Babuji Maharaj and 
requires us to be in regular practice of His founded Sahaj Marg System, 
which finally helps us to realize God and fulfill the object of the birth too. 

Wisdom is never an accidental gain but for sure by His blessings only . 

To become eligible for His blessings we need to be fan and 
become fana* to His special divine quality; 
Remembrance may support us but be never too sure because in remembrance self existence remains. 

उन के  मेरे साथ नजदीकी संग ने मुझे जीवन की बहुत सी जरूरी बुनियादी बातें सिखाई और वे अभी भी 
मुझे लगातार जीवन-यापन के दृष्टिकोण के बारे में  बहुत समझाते रहते हैं। 
उनकी शिक्षाओं में  सबसे ज्यादा ज़रूरी  मनुष्यों  के सामने अपने विचारों और कार्यों को पेश करने का हुनर 
या जो गुज़र चुके हैं उनके विचारों और कार्यों  को जीवित लोगों के सामने पेश करना है।
उनकी शिक्षाएं दूसरों के सामने हमारी ऐसी  ख़ूबियां ज़ाहिर करती हैं। 
मेरा विश्वास है कि ख़ुद को पेश करने के हुनर का सबसे अहम पहलू जो दूसरों को नज़र आता है, 
वह है आपकी बुद्धिमत्ता और उनके साथ आपका सहयोग। 
मेरे विश्वास से बुद्धियोग बाबूजी महाराज के आशीर्वाद से ही प्राप्त होता है। 
जिसमें उनके द्वारा स्थापित  सहज मार्ग पद्धिति को निरंतर नियमित रूप से अभ्यास की आवश्यकता है, 
जो कि अंतत: हमको ईश्वर साक्षातकार तथा जीवन के लक्ष्य की प्राप्ति में सहायक होता है।
बुद्धियोग की प्राप्ति कभी आकस्मिक नहीं होती बल्कि केवल उनके आशीर्वाद के फलस्वरूप ही है। 
उनके आशीर्वाद के पात्र बनने के लिए हमें उनका अंधभक्त (मुरीद) होने की ज़रूरत है
जिससे उनके विशेष दिव्य गुणों में फ़ना हो सकें। 
याद सहायक हो सकती है, लेकिन आवश्यक नहीं क्योंकि याद में स्वयं का अस्तित्व बना रहता है।
Regular practice of Sahaj Marg System for 30 days will help us to decide  why regular practice is important. 
* fana : extinction of the self in the Universal Being. (i.e. lose self, what remains then is He and He alone)
Thanks 
Sharad Chandra 
(Eldest Grandson of Rev. Babuji) 16th Feb 2017 
csharad63@yahoo.com 
Calling no: 91-0-9941497128 
Whats App: 7860117764 
Face book: Society for Babuji’s mission 
Website:https://www.babuji.org.in 
Permanent Calling - Sharad -91-0-99414 97128, S C Kishore 98116 78581 

.


Posted By : vishnukumar  |  Total views : 597